Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Hasna, Nachna, Gaana Dharm
  • SKU: KAB0957

Hasna, Nachna, Gaana Dharm

Rs. 128.00 Rs. 150.00
Shipping calculated at checkout.

हंसता, नाचता,गाता धर्म

जो व्यक्ति हँसते, नाचते और गाते हुए ध्यान में डूबता है, उसे एक नये सत्य का उद्घाटन होता है कि मेरे ऊपर कोई बंधन नहीं है I चेतना बिल्कुल स्वतंत्र है I ध्यान में डूबकर जब हम अपनी आत्मा को जानते है, वहाँ हम परमात्मा को पाते है और यह भी पाते है कि वह परमात्मा सदा-सदा से मुक्त है I उसके ऊपर कोई बन्धन नहीं है I जब भीतर एक बार उसका अहसास हो जाता है, तब यह भी पता चलता है कि सारा जगत, सारा अस्तित्व उसी परमात्मा, उसी चैतन्य से ओट-प्रोत है I यह पूरा विश्व ही एक मंदिर है I सर्वत्र ब्रह्म का वास है I वही भीतर है और वही बाहर है I लेकिन इस सर्वव्यापी परमात्मा को जानने के लिए हमे सबसे पहले उसे अपने भीतर तलाशना होगा I  ध्यान में हम वही कोशिश करते है I अपने भीतर ईश्वर की खोज I

'ओशो के दीवाने हम, आनंद मनाते है,

हँसते -नाचते - गाते हम, ध्यान में जाते है I 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP