Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Vastu Shastra Ke Rahasya (Part-1) (Hindi)
  • SKU: KAB0041

Vastu Shastra Ke Rahasya (Part-1) (Hindi)

Rs. 213.00 Rs. 250.00
Shipping calculated at checkout.

वास्तु शास्त्र का रहस्य (part-1)

वास्तु  शास्त्र भवन निर्माण की प्राच्य विधा है, जो हमें प्रकृति के ऊर्जा क्षेत्रो से तालमेल बिठाने की कला सिखाती है l पंच महातत्व अर्थात जल, पृथ्वी, अग्नि,वायु और आकाश से उतपन्न ऊर्जा बहुधा रश्मि या प्रकाश किरण सरीखी सीधी चलकर प्रवर्तित हुआ करती है l ऊर्जा का अनुभव भूखंड के आकर -प्रकार पर निर्भर करता है l भौतिक स्तर पर ऊर्जा के शुभ प्रभाव में, भवन की लंबाई, चौड़ाई व् ऊंचाई के परस्पर अनुपात की महत्वपूर्ण भूमिका हुआ करती है l 

वर्गाकार आकृति को श्रेष्ठतम तथा उसके बाद आयताकार को भी उत्तम माना जाता है l हाँ, आयताकार भूखंड में लंबाई, चौड़ाई के अनुपात का विचार करना आवश्यक है l ऐसी बात नहीं है क़ि अन्य आकार के भूखंड का भवन निषिद्ध है अथवा पश्चिम या दक्षिण दिशा के भूखंड मात्र मुसीबते बढाते है l किन्तु सत्य यही है क़ि आकृति का सीधा सम्बन्ध ऊर्जा क्षेत्र के निर्माण से जुड़ा है l विषम आकृति,जैसे त्रिकोण, पंचकोण या वृताकार भवन, ऊर्जा उत्पादन और वितरण में असंतुलन पैदा करते है I यदि वर्गाकार अथवा आयताकार   भूखंड /भवन में लंबाई, चौड़ाई व् ऊंचाई के परस्पर अनुपात की अनदेखी की जाए तब वह भी शायद विषम आकृति सरीखा अशुभ व् अनिष्टप्रद हो जाएगा I कारण -यह भूखण्ड वांछित ऊर्जा या शक्ति तरंगे उत्पन्न नहीं कर पाएगा I

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP