varshphal-vichar
  • SKU: KAB1637

Varshphal Vichar [Hindi]

Rs. 128.00 Rs. 150.00
Shipping calculated at checkout.

वर्षफल विचार

अशुद्ध वर्षमान के आधार पर लगभग १५०० वर्षो से अशुद्ध वर्ष कुण्डलिया बनायीं जा रही है जो कि कदापि उचित नहीं l आप शुद्ध वर्षमान से शुद्ध वर्षमान से शुद्ध व् सूक्ष्म वर्ष कुंडली बनाकर सम्पूर्ण वर्ष के एक -एक दिन का लेखा -जोखा जानकर पूर्ण वर्ष सार्थक कर लेना चाहते है तो आपको वर्षफल -विचार नामक पुस्तक अवश्य पढ़नी पड़ेगी l इस पुस्तक में विद्वान और भारत प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डॉ. उमेश पूरी 'ज्ञानेश्वर ' ने सरल ढंग से ताजिक पद्धति को समझाकर वर्ष कुंडली स्वयं बनाकर उसका फल जानना आसान कर दिया है l वर्ष कुंडली बनाने और उसका फल विचार ने सम्बन्धी ज्ञान को प्राप्त करने के लिए इस अनुपम पुस्तक को पढ़कर उन्नति का वरन करके जीवन सफल बनाए l

 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP