Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Ravan Sanhita
Sold Out
  • SKU: KAB0499

Ravan Sanhita

Rs. 510.00 Rs. 600.00
Shipping calculated at checkout.

Ravan Sanhita

लंकापति रावण के दशानन होने को उसके बहुमुखी ज्ञान का प्रतीक भी माना जाता है I वह दसो दिशाओं का ज्ञाता था I उसे सूर्य सारथी अरुण ने ज्योतिष का ज्ञान दिया था I वह त्रिकालज था I दशग्रीव अनन्य उपासक था गुह्य विद्याओं के अधिष्ठाता भगवान शिव का I उन्ही से मिला था उसे तंत्र मन्त्र का परम ज्ञान I अपनी इन्ही दिव्य व अमोघ शक्तियों के फलस्वरूप रावण ने काल तक को बना लिया था अपना बंधक I "रावण संहिता" नामक इस ग्रन्थ में रावण की जीवनगाथा के साथ ही उन साधनाओं का भी वर्णन है, जिनके बल से वह त्रैलोक्य विजयी बना I इस प्रकार ज्योतिष , तंत्र - मन्त्रोपासना , चिकित्सा व शिवाराधना के बारे में सरल और विस्तृत जानकारी प्राप्त करने वालों के लिए यह एक आदर्श ग्रन्थ है I

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP