Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Rahasyaavran Se Mukti Vastu Jeene Ki Kala Aur Vigyan
  • SKU: KAB1238

Rahasyaavran Se Mukti Vastu Jeene Ki Kala Aur Vigyan

Rs. 298.00 Rs. 350.00
Shipping calculated at checkout.

प्रस्तुत पुस्तक रहन - सहन की प्राचीन पद्दति और गृह निर्माण व वास्तु -कला की आधुनिक प्रौद्योगिकी का सुबोध सम्मिश्रण है l वास्तु शास्त्र की तकनीकों और विधियों के मानकीकृत और व्यवस्थित रूप का पूर्ण परिचय इस पुस्तक में मिलता है l

पुस्तक तीन खण्डों में विभाजित है l प्रथम खंड वास्तु की उन मूल अवधारणाओं , सिद्धांतों और शक्तियों की गहरी समझ के प्रति समर्पित है, जो किसी स्थान विशेष को प्रभावित करती हैं l पुस्तक का दूसरा खंड रहस्योद्घाटन करता है कि किस प्रकार हम इस धरा पर , अपने घर में ही, स्वर्ग का निर्माण कर सकते हैं ल इससे पता चलता है कि किस प्रकार हम घर कि बाहरी शांति कि स्थापना द्वारा मन की आतंरिक शांति प्राप्त कर सकते हैं l तृतीय खंड वास्तु के नित्यप्रति उपयोग से सम्बंधित है l एक अलग अध्याय में कार्यस्थल वास्तु की भी विस्तृत चर्चा की गई है , जो कई दृष्टियों से , रिहायशी वास्तु से अलग है l

Also Check other books by Ashwani Kumar Bansal:

- Corporate Vaastu (English) - 45 Demi God Godess of Vastu Explained

- VaastuThe Art & Science Of Living (English)

- HowTo Create A Harmonious Home Through Vastu (English)

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP