prasna-vidya
  • SKU: KAB0566

Prasna Vidya [Hindi]

₹ 68.00 ₹ 80.00
Shipping calculated at checkout.

PRASNA VIDYA - Hindi
विद्वान दैवज्ञ को सर्वप्रथम जातक या प्र्श्न विचार करते समय मनुष्यों की आयु की परीक्षा करनी चाहिए l आयु विचार के उपरान्त ही शेष शुभाशुभ फलों की परीक्षा करना युक्तिसंगत है l यह समस्त संसार मृत्यु के मुख्य की और निरन्तर अग्रसर है, अतः जिस मनुष्य का काल उपस्थित हो गया हो, उसका भाग्य ही क्या कर सकता है l आचार्य वेदनारायण अपनी प्र्श्न - विद्या नामक पुस्तक की अवतर्णिका करते हुए सर्वप्रथम आयु विचार के महत्व को प्रदर्शित कर रहे हैं l 
आचार्य वादनारायण दैवज्ञ को निर्देश देते हैं कि जातक हो या प्र्श्न, दोनों ही स्थितियों में सर्वप्रथम आयु का विचार करना ही श्रेष्ठ है l 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP