Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Jaimini Mukta (Pearls From Jaimini) - Hindi
  • SKU: KAB0767

Jaimini Mukta (Pearls From Jaimini) [Hindi]

Rs. 128.00 Rs. 150.00
Shipping calculated at checkout.

पाराशर  द्वारा स्वीकृत  लेकिन पाराशर होरा में कुछ कम विस्तार से बताए गए महत्वपृर्ण और सटीक पहलुओं को  मुनि जैमिनि ने सूत्र  शैली में कहा था । चार अध्याय और लगभग 1100 सूत्रों द्वारा तार्किक शैली में विवेचित फलित ज्योतिष के जैमिनी प्रोक्त  सभी नियमों को व्यवहारिक, सरल , सुबोध शैली में वास्तविक उदाहरण सहित समझाया गया है ।

० फलित ज्योतिष : पाराशर ने सुझाया , जैमिनि ने बताया;

० पराशर, जैमिनि और वृद्धकारिकाओं की  सोलह आना सहमति की त्रिवेणी ;

० यथाप्रसंग पाराशरी होरा  के साक्ष्यों  से परिपोषित ;

० पद, उपपद, कारकांश , वर्णद, अर्गला आदि का बेबाक विवेचन;

० ग्रह उपग्रह, राशि , भाव , षडवर्ग ,विशेष लग्न ,कारक मारक विवेचन ;

० राशि दशाओं का फल सहित सोदाहरण विस्तृत विवरण;

० पाक व भोग  राशि से दशाफल: पराशर व जैमिनि दोनों को मान्य;

० विंशोत्तरी आदि नक्षत्र दशाएं जैमिनि को भी मान्य;

०पाराशरी प्रोक्त आयु निर्णय की एक विशेष पद्धति का जैमिनि द्वारा विस्तार;

०आयु: साधन की पूरी प्रक्रिया उदाहरण सहित;

०प्रसव पूर्व और नवजात (प्रीनेटल & निओनेटल ) ज्योतिष नियमों का साक्षात्कार;

०पिता की कुण्डली से गर्भस्थ शिशु का जन्म समय व लग्न:

०कई नए राजयोगों का विस्तृत उल्लेख;

०त्रिशाशं व कारकांश से रोग विचार की अनोखी और कारगर पद्धति;

०कारकांश से पति पत्नी का अनूठा विचार; वास्तविक उदाहरण;

०स्त्री ज्योतिष के नियमो का मनोहर संगम ; 

०मंगलीक आदि दोषों और विवाह भंग के आज भी उपयोगी नियम;

०और अन्त में जैमिनि मुनि के बिखरे मोती;

०रम्य कलेवर: विषय मनोहर: ऋषि मुनि वृद्धों का मत संगम;

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP