hathyog-pradipika-hathyog-ka-utkarsh
  • SKU: KAB2213

Hathyog Pradipika - Hathyog ka Utkarsh [Hindi]

₹ 255.00 ₹ 300.00
Shipping calculated at checkout.
DESCRIPTION

चित्त की वृत्तियों के सांसारिक प्रवाह को अन्तर्मुखी करने की प्राचीन भारतीय साधना पद्धति  ही हठयोग है। हठयोग  शारीरिक एवं मानसिक श्रेष्ठता हेतु विश्व की प्राचीनतम प्रणाली है | योग विद्या के श्रेष्ठ प्रतिपादन हेतु ही स्वामी स्वात्माराम जी ने हठयोग प्रदीपिका की रचना की थी ।

“ह” एवं “ठ” के योग से मिलकर बना है हठयोग |“ह? अर्थात सूर्य  “ठ”अर्थात चन्द्र | इन दोनो  का योग ही प्राणों के आयाम को प्रतिबिम्बित करता है। इनके समन्वय की प्राणायाम  प्रक्रिया ही  “ है”और “ठ” का योग अर्थात हठयोग है |

हठयोग शुद्धि पर विशेष बल देता है इसलिये इसमें  षट्कर्मो पर विशेष महत्व दिया गया है | हठयोग प्रदीपिका के आसन ही आज योगा  बनकर पूरे विश्व को भारत की इस धरोहर का परिचय करा रहे हैं। वास्तव में हठयोग प्रदीपिका ग्रन्थ हठयोग का उत्कर्ष है|

RECENTLY VIEWED PRODUCTS

BACK TO TOP