hathyog-pradipika-hathyog-ka-utkarsh
  • SKU: KAB2213

Hathyog Pradipika - Hathyog ka Utkarsh [Hindi]

₹ 255.00 ₹ 300.00
Shipping calculated at checkout.
DESCRIPTION

Hathyog Pradipika - Hathyog ka Utkarsh [Hindi] By

Swami Swatmaram

Publisher: Randhir Prakashan

चित्त की वृत्तियों के सांसारिक प्रवाह को अन्तर्मुखी करने की प्राचीन भारतीय साधना पद्धति  ही हठयोग है। हठयोग  शारीरिक एवं मानसिक श्रेष्ठता हेतु विश्व की प्राचीनतम प्रणाली है | योग विद्या के श्रेष्ठ प्रतिपादन हेतु ही स्वामी स्वात्माराम जी ने हठयोग प्रदीपिका की रचना की थी ।

“ह” एवं “ठ” के योग से मिलकर बना है हठयोग |“ह? अर्थात सूर्य  “ठ”अर्थात चन्द्र | इन दोनो  का योग ही प्राणों के आयाम को प्रतिबिम्बित करता है। इनके समन्वय की प्राणायाम  प्रक्रिया ही  “ है”और “ठ” का योग अर्थात हठयोग है |

हठयोग शुद्धि पर विशेष बल देता है इसलिये इसमें  षट्कर्मो पर विशेष महत्व दिया गया है | हठयोग प्रदीपिका के आसन ही आज योगा  बनकर पूरे विश्व को भारत की इस धरोहर का परिचय करा रहे हैं। वास्तव में हठयोग प्रदीपिका ग्रन्थ हठयोग का उत्कर्ष है|

RECENTLY VIEWED PRODUCTS

BACK TO TOP