Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Galib Ki Shayri
  • SKU: KAB1220

Galib Ki Shayri

Rs. 85.00 Rs. 100.00
Shipping calculated at checkout.

Galib Ki Shayri

ग़ालिब की शायरी

किसी ने सच ही कहा है - मुगलो ने हिन्दुस्तान को दो ही चीजें नायाब दी है ; एक ताजमहल और दूसरे ग़ालिब l

ग़ालिब अपनी मिसाल आप थे l ग़ालिब का एक - एक शे'र अपने में उनका ताआर्रुफ़ देने की हैसियत रखता है l मिर्जा ग़ालिब फारसी के शायर होते हुए भी उर्दू अदब के रोशन मीनार थे और आज भी है l अगर यह कहा जाए कि वे अपने आपमें उर्दू अदब थे, तो गलत न होगा l हमारे इस अदब के रोशन मीनार थे और आज भी है l अगर यह कहा जाए कि वे अपने आपमें उर्दू अदब थे, तो गलत न होगा l हमारे इस दाबे को साबित करेगी यह किताब, जो इस समय आपके हाथ में है और आपकी जुबान से भी एकाएक निकल उठेगा - वाह ग़ालिब! और यह भी कि ...

है और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे,

कहते है कि ग़ालिब' का है अंदाज़े -बया और l

 

 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP