Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Durga Saptshati
  • SKU: KAB1227

Durga Saptshati

Rs. 119.00 Rs. 140.00
Shipping calculated at checkout.

 दुर्गा सप्तशती

जगदम्बे की प्रेणना से दुर्गा सप्तशती पर आधारित यह पुस्तक देवी भक्तो के कल्याणार्थ प्रकाशित की गई है l इसमें मेरा कुछ भी नहीं है जो भी कुछ है वह सब जगज्जननी जगदम्बे की कृपा का फल है l हाँ, मै इतना अवश्य कह सकता हु कि सच्ची लग्न व् श्रदा के साथ, शुद्ध वस्त्रधारण कर, शुद्धाचरण पूर्वक एकाग्र चित्त से जगज्जननी के मंत्रो का जाप और ' महाशक्ति महिमा' का पाठ करेगा, उसकी मनोकामना अवश्य सिद्ध होगी l पाठ या जाप करते समय निम्न बातो का अवश्य ध्यान रखे -

१. दुर्गा - सप्तशती - भाषा का पाठ करते समय या तो भगवती दुर्गा का कोई फोटो पवित्र स्थान पर सजाकर रखे अथवा देवी के भवन में माँ की मूर्ति के सामने पाठ करे l

२. पाठ करते समय बीच - बीच में मूर्ति को देखते रहे और फिर वह छवि अपने ह्रदय में धारण करने का अभ्यास करे l कुछ समय बाद माँ की छवि आँखें बन्द करने पर भी अन्तर चक्षुओं से आपको ध्यान करते ही दिखाई पड़ने लगेगी l

३. 'महाशक्ति दुर्गा देव्यै नम: ' इस मन्त्र का जाप पाठ के अन्त में करके गंगा जल का चरणामृत लें l

४. जब मन न लगे उपरोक्त मन्त्र का जाप करने लगे l जब तक पूरा अभ्यास न हो होठ व् जीभ आदि का प्रयोग करे i  कुछ समय बाद यह मन्त्र हर समय अपने आप होने लगे इतना अभ्यास बढ़ा ले i ऐसा होने पर प्रथम तो कोई आपत्ति आएगी ही नहीं, अगर प्रारब्धवशात आई भी तो बहुत कम i ऐसा विश्वास रखना चाहिए i

५. यदि  सामर्थ्य हो तो पाठ समाप्त होने पर हर रोज एक कन्या का पूजन करे अथवा देवी के भवन में अरदास चढ़ा दे i

६. यह 'दुर्गा -सप्तशती -भाषा ' अपने आप में प्राचीन काल से प्रचलित दुर्गा सप्तशती (संस्कृत ) का सरल भाव हिंन्दी भाषा में होने से परमपवित्र मनोकामना  सिद्ध करने वाली है i

७. इस पुस्तक में आदिशक्ति भगवती जगदम्बा के अंसख्य  नाम आये है उनकी महिमा का बखान कर पाना शरीर धारी प्राणी की शक्ति के बाहर की बात है i

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP