Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Aatish Ki Shayri
  • SKU: KAB1215

Aatish Ki Shayri

Rs. 68.00 Rs. 80.00
Shipping calculated at checkout.

आतिश की शायरी

'आतिश' का असली नाम था - ख्वाजा हैदर अली l अपने नाम के अनुरूप उनकी शायरी में आग - सी धधक है, रोशनी है और फकीरो -सा फक्करपन भी है l दिल्ली में जन्मी, दकन  में पत्नी और लखनऊ में परवान चढ़ी उर्दू जुबान को सवारने में जिन उस्ताद शायरों ने दिलचस्पी दिखाई, उनमे आतिश भी शामिल है l पेश है - उर्दू अदब के प्रेमियों के लिए आतिश की आतिशी शायरी के कुछ चुनिंदा कलाम l

गुनहगारों की गर्दन मारते है हुक्म - शरव से

ख्याल अपने गुनाहो का नहीं जल्लाद करते है

सामने आइना रखते तो गश आ जाता

तुमने अंदाज़ नहीं अपनी अदा का देखा

आँख पाते ही ख़याले -यार ने की दिल में राह

मिल ही रहता है मकां जिसका पता मालुम हो

कौन - सा दिल है नहीं जिसमे खुदा की मंजिल

शिकवा किस मुँह से करू में बुते -रानाई का

 

 

 

 

 

 

 

 

 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP