Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Aapka Sapna Kisne Churaya - Hindi
  • SKU: KAB0569

Aapka Sapna Kisne Churaya - Hindi

Rs. 169.00 Rs. 199.00
Shipping calculated at checkout.

क्या पढ़ - लिखकर नौकरी ढूढ़ना ही हमारा एकमात्र उद्देश्य है ? क्या हम सिर्फ जीविका चलाने के लिए काम करते है ? क्या आपकी नौकरी में आपकी योगयता के बराबर या उससे अधिक वेतन दिया जाता है ? नौकरी करते - करते आप कब तक आर्थिक रूप से स्वतंत्र अथवा आत्मनिर्भर हो पाएगे ? आप अपना समय कब तक कोड़ियो के भाव बेचते रहेंगे?

क्या आप जानते है - दिल के दौरे पहली बार अधिकतर सोमवार सुबह ८ बजे से लेकर १० बजे के बिच ही परते है,  जिससे यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है की लोग सप्ताहांत के बाद दोवारा काम पर जाने के बजाए मरना अधिक पंसद करते है l

नोकरियो की सुरक्षा एवं बफादारी पर अब भरोसा नहीं किया जा सकता क्योकि जनरल मोटर्स अपने तिस हज़ार से भी अधिक कर्मचारियों को निकाल बहार कर चुकी है l फोर्ड कंपनी ने उत्तरी अमेरिका में अपने एक दर्ज़न से अधिक कारखानों पर ताला दाल दिया है l  सपं, फ्रांस तथा जर्मनी में बुरा हाल है l  चीन तथा भारत के बाजार भी इसी राह पर है l

स्वय के व्यापार के बारे में आप क्या सोचते है .... क्या आपने इस बारे में कभी सोचा है ? में ऐसा करके देख चुका हुँ l मैंने खुद के व्यापार में लाखो डॉलर्स कमाए , परन्तु इसके लिए, मुझे १२ लाख डॉलर गवाने भी पड़े l

क्या आप जानते है - लगभग ९० प्रतिशत लघु उद्दोग अपना एक वर्षे पूरा करने से पहले ही दम तोड़ देते है ..बाकी बचे हुओं में से ८० प्रतिशत अगले पांच सालो में बंद हो जाते है .... तथा बाकी के ८०  प्रतिशत अगले दस साल भी पुरे नहीं कर पाते ? अर्थार्त शुरू करने से पहले सफल होने की संभावनाए यहाँ एक प्रतिशत से भी कम होती है आज हम लोग वह काम नहीं कर रहे है जिसे करना हमें अच्छा लगता है अथवा जिसे करने में हम निपुण है l लोग उन नोकरियो पर रोजाना जा रहे है, जिनेह वे पंसन्द नहीं करते l  अपनी जीविका छिन जाने के डर से लोग उबाऊ नोकरियो से चिपके हुए है l

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP