trik-bhav-vichar
  • SKU: KAB1173

Trik Bhav Vichar [Hindi]

Rs. 111.00 Rs. 130.00
Shipping calculated at checkout.

त्रिक भाव विचार

भारतीय संस्कृति में ' त्रि ' या तीन का विशेष महत्व है l यहाँ ईश्वर के तीन रूप या तीन प्रमुख देवताओ के रूप में पहचान की गई है I  सृष्टि के लिए ब्रह्मा, स्थिति और विकास के लिए विष्णु तो संहार या विनाश के लिए भगवान् शिव को जिम्मेदार माना है I त्रिक का अर्थ है तीन सुख, न जाने कब और कैसे ये भाव दुःख भाव बन गए I

पहले षष्ठ भाव की चर्चा करे I कुण्डली के प्रथम पाँच भाव क्रमश: (१) देह, आत्मा, आत्मबल व् देह सुख (२) कुटुम्ब, वाणी, संचित धन व् कुटुम्ब से मिला स्नेह व् सम्मान (३) बल प्रताप, साहस, शौर्य, परिश्रम, पराक्रम व् कार्य कुशलता, ( ४) माता, मन, घर- परिवार व् वाहन सुख या सभी प्रकार का सुख, ( ५) बुद्धि, विधा, मित्र, मनोरंजन व् संतान सुख के भाव है I

षष्ठ भाव कदाचित परीक्षा या निरीक्षण - परीक्षण का भाव है I जातक का देह बल, मानसिक स्थिरता, सूझ- बुझ व् कार्य कुशलता कितनी परिपक्क हुई है - इसका ज्ञान कराने के लिए षष्ठ भाव है  l 

 

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP