Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Sampuran Swasthya Vol-2
  • SKU: KAB0992

Sampuran Swasthya Vol-2

Rs. 213.00 Rs. 250.00
Shipping calculated at checkout.

सम्पूर्ण स्वाथ्य  भाग -2

स्वास्थ्य को व्यक्ति के स्व और उसके परिवेश से तालमेल के रूप में परिभाषित किया जा रहा है I प्राचीन धारणा थी कि प्रकृति के संग सामंजस्य की दशा स्वास्थ्य है I प्राकृतिक सामंजस्य से बिगाड़ होने पर रोग की अवस्था यानी विकृति पैदा होती है I औषधि का कार्य खोए हुए संतुलन को फिर से प्राप्त करने के लिए प्रकृति की सहायता करना है I आर्युवैदिक मनीषयों के अनुसार उपचार स्वयं प्रकृति से प्रभावित होता है, चिकित्सक और औषिधि इस प्रक्रिया में सहायता भर करते है I

आधुनिक धारणा में मानव-शरीर की तुलना एक ऐसी मशीन के रूप में की गई है, जिसके अलग- अलग भागों का विश्लेषण किया जा सकता है I रोग को शरीर रूपी मशीन के किसी पुरजे में खराबी के तौर पर देखा जाता है I देह की विभिन्न प्रक्रियाओ को जैवकीय और आणविक स्तरों पर समझा जाता है I

नवीनतम धारणा है कि स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक ज्ञान प्रत्येक मनुष्य को होना चाहिए I इस ज्ञान के आभाव में बड़े पैमाने पर कोई सुधार नहीं हो सकता I स्वास्थ्य संबंधी कानून की उपयोगिता स्वास्थ्य शिक्षा के आभाव में नगण्य है और स्वास्थ्य शिक्षा द्वारा जनता में स्वास्थ्य चेतना होने पर कानून की विशेष आवश्यकता नही रह जाती I स्वास्थ्य की देखरेख, जन्म से मृत्यु पर्यत सभी के लिए आवश्यक है I

आज हरेक व्यक्ति को आधुनिक चिकित्सा शास्त्र के बारे में सामान्य ज्ञान होना चाहिए I तभी वह आर्युविज्ञान की इन उपलब्धियों का पूरा लाभ उठा पायेगा I जरूरत पड़ने पर वह 'प्राथमिक चिकित्सा' यानि 'फर्स्ट -एड' द्वारा अपनी या किसी और की जीवन की रक्षा कर पाएगा I लालची चिकित्सको द्वारा किए जा रहे शोषण, अनावश्यक खर्चीले टेस्टो, बेवजह ऑपरेशनों इत्यादि से भी बच पाएगा I

अत: सर्वागीण लोक - स्वास्थ्य - सुधार में केवल सरकार और चिकित्सक ही जिम्मेदार नहीं, प्रत्येक नागरिक का भी महत्वपूर्ण उत्तरदायित्व है I इसी लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए  'स्वाथ्य प्रज्ञा ' नामक कार्यक्रम ओशोधारा में चलाया जाता है I  I तत्संबधी हिन्दी साहित्य की आवश्यकता  को महसूस करते हुए, पुस्तक रूपी यह  द्वितीय पुष्प लोक- मानस को अर्पित है I

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP