Call Us: +91 99581 38227

From 10:00 AM to 7:00 PM (Monday - Saturday)

Avdhoot Geeta
  • SKU: KAB1023

Avdhoot Geeta

Rs. 85.00 Rs. 100.00
Shipping calculated at checkout.

अवधूत गीता

अवधूत गीता के बारे में सद्गुरु ओशो सिद्दार्थ जी कहते है - ' जहा भगवद्गीता समाप्त होती है, वहां से अष्टावक्र गीता (अष्टावक्र संहिता ) शुरू होती है और जहा अष्टावक्र गीता समाप्त होती है, वहां से अवधूत गीता आरंभ होती है I इसी बात से 'अवधूत गीता' की मह्ता स्पष्ट है I स्वयं ओशो सिद्धार्थ जी के शब्दो में :-

कहते है दत्तात्रेय ब्रह्मा, आत्मा कहते है महावीर,

गौतम कहते है शून्य इसे, कहते है ॐ नानक कबीर I

भगवत्ता कहते है ओशो, वह तुम ही हो तो अहो I

भगवत्ता शरणम् गच्छामि, अवधूत शरणम् गच्छामि II

शब्दो में तुम मत खो जाना, सब संतो की है बात एक ;

आकारों में है जग उलझा, वह निराकार ओंकार एक II

गुरु कहो या कि गोविन्द कहो, वह तुम ही हो, तुम ही तो अहो

गोविन्दम शरणम् गच्छामि , अवधूत शरणम् गच्छामि II

RELATED BOOKS

RECENTLY VIEWED BOOKS

BACK TO TOP